वर्तमान सरकार के तीन वर्ष।

Social Share

पशु पालन विभाग है तत्पर पशुओं के उपचार के लिए

अजमेर, 7 दिसम्बर। वर्तमान सरकार के तीन वर्षों में पशुपालन विभाग द्वारा पशुपालकों को राहत प्रदान की गई एवं 26 लाख से अधिक पशुओं की चिकित्सा की गई।

     पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक प्रफुल्ल माथुर ने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में अजमेर जिले में 105 पशुधन सहायकों को नव नियुक्ति प्रदान की गई है। यूटीबी के आधार पर 17 नये पशु चिकित्सा अधिकारियों को नियुक्ति दी गई। अजमेर जिले में 2 पशु चिकित्सालय प्रथम श्रेणी में, 5 पशु चिकित्सा उप केन्द्रों को पशु चिकित्सालयों में एवं 5 पशु औषधालयों को पशु चिकित्सालय में में क्रमोन्नत किया गया है।

     उन्होंने बताया कि जिले में 30 पशु चिकित्सा उपकेन्द्र विभिन्न ग्राम पंचायतों में खोले गये है। इसी प्रकार 20 नई पशु चिकित्सा संस्था भवनों का लोकार्पण किया गया है। इनकी कुल लागत 3 करोड़ 36 लाख 30 हजार रूपये है। स्मार्ट सिटी परियोजना के अन्तर्गत 1.50 करोड़ रूपये की लागत से बहु-उद्देशीय पशु चिकित्सालय भवनों का निर्माण किया गया है।

     उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री पशुधन निःशुल्क दवा योजना से मुुुख्यतः गरीब पशुपालकों को उनके पशुओं के इलाज में काफी मदद प्राप्त हुई। पशु चिकित्सालयों में आने वाले पशुओं की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। वर्तमान सरकार के तीन साल के कार्यकाल में कुल 26 लाख 6 हजार 672 पशुओं को इस योजना का लाभ प्रदान किया गया। राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान योजना के प्रथम चरण में 20 हजार 807, द्वितीय चरण में 42 हजार 255 पशुओं को कृत्रिम गर्भाधान किया गया। तृतीय चरण के तहत जिले के समस्त ग्रामों में अगस्त माह से निःशुल्क कृत्रिम गर्भाधान कार्य सम्पादित किया जा रहा है। इसका इनाफ साफ्टवेयर पर इन्द्राज किया जा रहा है। इस चरण में एक अगस्त से अब तक 13 हजार 833 पशुओं का निःशुल्क कृत्रिम गर्भाधान किया जा चुका है। इस प्रकार एक लाख 85 हजार 345 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान किया गया। राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत वर्तमान सरकार के कार्यकाल में 9 लाख 61 हजार 743 पशुओं में खुरपका मुखपका (एफएमडी) रोग का टीकाकरण किया गया एवं 3 लाख 55 हजार 100 छोटे पशुओं में पीपीआर का टीकाकरण किया गया।

     उन्होंने बताया कि जिले में कुल पंजीकृत गौशाला 50 तथा गौशालाओं में कुल पशु संख्या 10 हजार 828 है। विभाग द्वारा माह जनवरी, फरवरी, मार्च 2019 में 2 करोड़ 11 लाख 68 हजार, माह अपे्रल, मई व जून 2020 में 3 करोड़ 23 लाख 26 हजार 200 रूपये एवं माह जनवरी, फरवरी, मार्च 2021 में 3 करोड़ 26 लाख 43 हजार रूपये गौशालाओं को सहायता हेतु राशि प्रदान की गई। इस वित्तीय वर्ष में 26 गौशालाओं को आगामी अनुदान 3 करोड़ 3 लाख 73 हजार 200 रूपये की कार्यवाही प्रक्रियाधीन है। जिले में 108 राजस्थान वेटनरी रिलीफ सोसायटी गठित की जानी प्रस्तावित थी। इसमें से 76 सोसायटी गठित की जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *